Hrithik Roshan: Super 30 was a difficult decision for me

Hrithik Roshan is currently riding high on the success of his last film Super 30. The film is inspired by Anand Kumar – a mathematician from Bihar, whose struggles to educate downtrodden children. The film worked well at the box office and also to…

Hrithik Roshan is currently riding high on the success of his last film Super 30. The film is inspired by Anand Kumar - a mathematician from Bihar, whose struggles to educate downtrodden children. The film worked well at the box office and also touched the viewers' hearts. Hrithik is elated with the success of Super 30, which had him learn the Bihari accent to get into the skin of the character.

Talking about Super 30's success, Hrithik Roshan spoke to Filmfare about the emotions he went through before the film's release. Here's what the actor had to say: "Taking up Super 30 was indeed a difficult decision for me. It’s not like I’ve had back-to-back blockbusters to take on a film like this, which is not in the commercial realm. It’s not a mainstream film. So, when I heard the script, it seemed a difficult call to take. It was a big risk. But I’m a curious soul. I wanted to take on this adventure and do something that pulled my heartstrings. Mentally, the calculation didn’t seem to be a commercially viable one. But my heart wanted to do it. I wanted to find out what would happen if I did it."

Hrithik Roshan, who made a blockbuster Bollywood debut 19 years ago has proved himself as an actor by giving versatile performances in films like Guzaarish, Jodhaa Akbar, Dhoom 2, and the Krrish franchise. In a recent interview, he admitted that he looks for "entertaining scripts" while signing the projects irrespective of genre.

"Honestly, I did not come on board for 'Super 30' because of the social message. I did it because it's a great script. My father always says that if you want to give a message to the society, you make a documentary, don't make films. If you make a film, it has to be entertaining. I am not going to do a film only because it is a biopic on a great man. I am going to do a film if it's an entertaining script, that's it! Those are the kind of stories I am looking forward to," he said.

Super 30 also featured Mrunal Thakur with an additional cast of Pankaj Tripathi, Nandish Sandhu and Amit Srivastava who have delivered stellar performances.

After portraying a de-glam look in the biopic of Patna based maths teacher Anand Kumar in Super 30, Hrithik will be seen in an high-octane action avatar in War. Directed by Siddharth Anand, War is an out-and-out action film, a visual treat for action-film lovers. Fans would witness Hrithik and Tiger pull off some never-seen-before action sequences as they try to beat each other. Hrithik, Tiger, along with Vaani Kapoor will be seen fighting each other in seven different countries and 15 world cities.

War is slated to release in Hindi, Tamil, and Telugu on the big National Holiday of Gandhi Jayanti, October 2, 2019. Produced by Yash Raj Films, this Hrithik-Tiger film is one of the most-talked-about films of the year!

Also Read: Hrithik Roshan, Tiger Shroff's action packed film War filmed in seven countries

Catch up on all the latest entertainment news and gossip here. Also download the new mid-day Android and iOS apps to get latest updates

NRC: ओवैसी का BJP पर तंज, ‘कहां गए 21 लाख?’

असम में राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर की फाइनल लिस्ट आने के बाद इस पर प्रतिक्रिया आने लगी हैं। AIMIM अध्यक्ष असदुद्दीन ​ओवैसी ने सवाल किया है कि बीजेपी पहले दावा कर रही थी कि राज्य में 40 लाख से ज्यादा अवैध पलायनकर्ता हैं, तो अब सिर्फ 19 लाख कैसे रह गए।

गुवाहाटी असम में राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर की फाइनल लिस्ट शुक्रवार को जारी कर दी गई। इस लिस्ट में 3.11 करोड़ लोगों को जगह दी गई है, जबकि असम में रहने वाले 19.06 लाख लोग इससे बाहर रखे गए हैं। लिस्ट आने के बाद नेताओं और आम लोगों की प्रतिक्रियाएं भी आने लगी हैं। लिस्ट में जगह नहीं पाने वाले कुछ लोगों ने जहां एक ओर न्यायपालिका पर भरोसा जताया है, तो वहीं AIMIM अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी ने सवाल किया है कि भारतीय जनता पार्टी पहले दावा कर रही थी कि राज्य में 40 लाख से ज्यादा अवैध पलायनकर्ता हैं, तो अब सिर्फ 19 लाख कैसे रह गए। यह भी पढ़ें: ओवैसी ने कहा है कि बीजेपी को सबक लेना चाहिए। उन्होंने कहा, 'उन्हें के लिए हिंदू-मुस्लिम के नाम पर बात करनी बंद करनी चाहिए। उन्हें असम में जो हुआ, उससे सबक लेना चाहिए। अवैध पलायनकर्ताओं का मिथक टूट चुका है।' उन्होंने आशंका जताई कि बीजेपी नागरिक संशोधन बिल के जरिए ऐसे बिल ला सकती है जिसमें वे गैर-मुस्लिमों को नागरिकता दे सकती है। उन्होंने इससे समानता के अधिकार का उल्लंघन बताते हुए चिंता जताई। यहां कर देखें NRC में आपका नाम है या नहीं 'कहां गए 40 लाख लोग?' उन्होंने कहा कि असम में कई लोगों ने उन्हें बताया है कि लोगों के माता-पिता के नाम लिस्ट में हैं, लेकिन बच्चों के नाम नहीं है। उन्होंने कहा कि अभी तक बीजेपी दावा कर रही थी कि राज्य में 40 लाख से ज्यादा अवैध पलायनकर्ता हैं लेकिन लिस्ट में सिर्फ 19 लाख लोगों के नाम सामने आए हैं। इनमें से करीब 3 लाख लोग ऐसे हैं जिन्होंने दस्तावेज जमा नहीं किए हैं। उनके दस्तावेज जमा कर देने के बाद यह आंकड़ा और भी कम हो जाएगा। उन्होंने सवाल किया कि आखिर 40 लाख लोग कहां गए। 'न्यायपालिका पर भरोसा' हालांकि, कुछ लोग ऐसे भी हैं जिन्होंने न्यायिक व्यवस्था पर भरोसा जताया है। इन्हीं में से एक हैं रिटायर्ड आर्मी ऑफिसर मोहम्मद सनाउल्लाह। उनका नाम फाइनल लिस्ट में नहीं है लेकिन वह इससे उलट भी नहीं कर रहे थे। उनका कहना है, 'मैं लिस्ट में अपना नाम आने की उम्मीद नहीं कर रहा था क्योंकि मेरा केस हाई कोर्ट में चल रहा है। मेरा न्यायपालिका पर पूरा विश्वास है और मुझे भरोसा है कि मुझे न्याय मिलेगा।' 'ट्राइब्यूनल का हो गठन' असम में कांग्रेस सांसद अब्दुल खलीक ने राज्य एनआरसी कोऑर्डिनेटर को फाइनल लिस्ट जारी करने पर बधाई दी है। हालांकि, उन्होंने कई भारतीय नागरिकों के नाम लिस्ट में नहीं होने पर असंतुष्टि जताई। उन्होंने कहा, 'मैं पूरी तरह से संतुष्ट नहीं हूं क्योंकि जो लोग सच में भारतीय नागरिक हैं, उनके नाम छोड़ दिए गए हैं। मैं सरकार से अपील करता हूं कि फॉरनर्स ट्राइब्यूनल के गठन की समीक्षा करे।

Zoya Akhtar is all set to release Gully Boy in Japan

Gully Boy has developed a cult-like following ever since it was released and Zoya Akhtar is on a roll, adding to the list of accolades that she brings to India with international recognitions.
The ace director is now all set to travel to Japan for the …

Gully Boy has developed a cult-like following ever since it was released and Zoya Akhtar is on a roll, adding to the list of accolades that she brings to India with international recognitions.

The ace director is now all set to travel to Japan for the theatrical release of Gullyboy, adding to her international fame. She will be travelling to Japan on the 3rd of September for Gullyboy's release. Ever since the movie was launched, it has been creating waves not just in India but also internationally, having been featured at various Film Festivals and now will be released theatrically to the audiences and fans in Japan.

Recently, Zoya Akhtar was nominated to become a member of the Oscar academy of motion picture arts and sciences. Owing to her talent and the progressive projects that she has helmed, Zoya Akhtar is one of the most highly celebrated Directors of her generation, giving us timeless movies like Zindagi Na Milegi Dobara, Dil Dhadakne Do, and Gullyboy.

With a journey of four feature films, two short films, and one web series, Zoya Akhtar is one of the leading filmmakers who has carved her niche in the entertainment industry and her presence at the Academy is certainly a moment of pride for all.

Zoya Akhtar is currently directing Ghost Stories along with Janhvi Kapoor and Vijay Verma. Zoya Akhtar's short is part of four short films directed by Zoya and others including Karan Johar, Anurag Kashyap and Dibakar Banerjee.

Ghost Stories is a part of the series that was earlier made as Bombay Talkies, which was a celebration of love for cinema in 2013 with the same directors making a short of 30 minutes each. The shoot of Zoya Akhtar's short has just begun and will be produced by RSVP Pictures and Tiger Baby.

"As a writer/director, I thrive on bending genres and inverting tropes and I am so looking forward to attempting that with a ghost story," Zoya said in a chat with IANS.

The director will be back with Made in heaven season two and we cannot wait to witness the magic she brings with her commendable work.

Also Read: Zoya Akhtar: The men we see on screen have changed

Catch up on all the latest entertainment news and gossip here. Also download the new mid-day Android and iOS apps to get latest updates

अरुणाचल प्रदेश के एक शख्स ने आदिवासी समुदाय के लिए नई लिपि विकसित कर इतिहास रचा

अरुणाचल की भाषा को संरक्षित और प्रलेखित करने के लिए बानवांग लोसू ने अपनी जनजाति की भाषा वेंचो के लिए एक स्क्रिप्ट बनाई है, जिसका अब यूनिकोड में एक स्थान है। वेंचो भाषा उत्तरी नागा भाषाओं के तहत तिब्बती-बर्मन परिवार से संबंधित है। बानवांग पुणे के डेक्कन कॉलेज पोस्ट ग्रेजुएशन एंड रिसर्च इंस्टीट्यूट में भाषा विज्ञान में परास्नातक की पढ़ाई कर रहा है। बानवांग वेंचो के लिए एक स्क्रिप्ट विकसित करने के लिए काम कर रहा है। वेंचो एक आदिवासी भाषा जिसे अरुणाचल प्रदेश के लोंगडिंग जिले में 55,000 लोग बोलते हैं। 2013 में ‘वेंचो स्क्रिप्ट’ नामक एक पुस्तक प्रकाशित हुई थी। यह पुस्तक शब्दों और वाक्यों में अक्षरों का मूल अनुप्रयोग करती है। लोंगडिंग जिले में वेंचो बोलने वाले लोगों के लिए नई स्क्रिप्ट एक वरदान के रूप में आई है।

अरुणाचल की भाषा को संरक्षित और प्रलेखित करने के लिए बानवांग लोसू ने अपनी जनजाति की भाषा वेंचो के लिए एक स्क्रिप्ट बनाई है, जिसका अब यूनिकोड में एक स्थान है। वेंचो भाषा उत्तरी नागा भाषाओं के तहत तिब्बती-बर्मन परिवार से संबंधित है। बानवांग पुणे के डेक्कन कॉलेज पोस्ट ग्रेजुएशन एंड रिसर्च इंस्टीट्यूट में भाषा विज्ञान में परास्नातक की पढ़ाई कर रहा है। बानवांग वेंचो के लिए एक स्क्रिप्ट विकसित करने के लिए काम कर रहा है। वेंचो एक आदिवासी भाषा जिसे अरुणाचल प्रदेश के लोंगडिंग जिले में 55,000 लोग बोलते हैं। 2013 में 'वेंचो स्क्रिप्ट' नामक एक पुस्तक प्रकाशित हुई थी। यह पुस्तक शब्दों और वाक्यों में अक्षरों का मूल अनुप्रयोग करती है। लोंगडिंग जिले में वेंचो बोलने वाले लोगों के लिए नई स्क्रिप्ट एक वरदान के रूप में आई है।


NRC: असदुद्दीन ओवैसी ने कहा- असम में जो हुआ, उससे BJP को सबक लेना चाहिए

असम में राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर (NRC) की अंतिम सूची 31 अगस्त को जारी कर दी गई है, जिसमें राज्य के 19 लाख से अधिक लोगों को बाहर रखा गया है। NRC सूची पर मीडिया से बात करते हुए, ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (AIMIM) के प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने कहा, ‘असम में कई लोगों ने मुझे बताया है कि NRC में उनके माता-पिता के नाम शामिल हैं, लेकिन उनके बच्चों के नाम बाहर रखे गए हैं। उदाहरण के लिए, मोहम्मद सनाउल्लाह, उन्होंने भारतीय सेना में सेवा की है। उनका मामला उच्च न्यायालय में लंबित है। मुझे यकीन है कि उन्हें भी न्याय मिलेगा। यह भारतीय जनता पार्टी (BJP) के लिए शर्मनाक क्षण है।’

असम में राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर (NRC) की अंतिम सूची 31 अगस्त को जारी कर दी गई है, जिसमें राज्य के 19 लाख से अधिक लोगों को बाहर रखा गया है। NRC सूची पर मीडिया से बात करते हुए, ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (AIMIM) के प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने कहा, 'असम में कई लोगों ने मुझे बताया है कि NRC में उनके माता-पिता के नाम शामिल हैं, लेकिन उनके बच्चों के नाम बाहर रखे गए हैं। उदाहरण के लिए, मोहम्मद सनाउल्लाह, उन्होंने भारतीय सेना में सेवा की है। उनका मामला उच्च न्यायालय में लंबित है। मुझे यकीन है कि उन्हें भी न्याय मिलेगा। यह भारतीय जनता पार्टी (BJP) के लिए शर्मनाक क्षण है।'